Get all popular news in one place from different sources

India GDP: India GDP Growth Rate Data 2020 Update | Economy of India, India Gross Domestic Product (GDP) Quarterly | देश की अर्थव्यवस्था में दूसरी तिमाही में 8 से 11% की आ सकती है गिरावट

4

  • Hindi News
  • Business
  • India GDP: India GDP Growth Rate Data 2020 Update | Economy Of India, India Gross Domestic Product (GDP) Quarterly

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें Popular News ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी में 23.9 % की गिरावट आई थी
  • कृषि और बैंकिंग एवं फाइनेंंशियल सेक्टर के अच्छा प्रदर्शन की उम्मीद है

चालू वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) के सकल घरेलू उत्पाद (GDP) के आंकड़े आज जारी किए जाएंगे। इसके बारे में अनुमान है कि इसमें 8-11% की गिरावट आ सकती है। अगर ऐसा होता है तो चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही की तुलना में इसमें करीबन 40% का सुधार हो सकता है। पहली तिमाही में 23.9% की गिरावट आई थी।

दूसरी तिमाही में अर्थव्यवस्था खुली है

हालांकि पहली तिमाही के पहले दो महीनों अप्रैल और मई में देश में पूरी तरह से लॉकडाउन था। मई के अंत में जाकर गतिविधियां और आवागमन शुरू हुआ था। जबकि दूसरी तिमाही में पूरी अर्थव्यवस्था खुल गई है। ऐसे में GDP में कम गिरावट रह सकती है। रेटिंग एजेंसियों का अनुमान है कि दूसरी तिमाही में GDP 10 से 11% के बीच गिर सकती है।

आरबीआई का अनुमान 8.6% की गिरावट का है

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) का अनुमान है कि GDP में 8.6% की गिरावट रहेगी। मूडीज ने 10.6, केयर रेटिंग ने 9.9, क्रिसिल ने 12, इक्रा ने 9.5% और एसबीआई रिसर्च ने 10.7% की गिरावट का अनुमान जताया है। जिन सेक्टर्स में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद है उनमें कृषि, बैंकिग एवं फाइनेंस और सेवा सेक्टर हैं। जबकि मैन्युफैक्चरिंग और कंस्ट्रक्शन में गिरावट आ सकती है।

लिस्टेड कंपनियों का मुनाफा रिकॉर्ड बढ़ा

गुरुवार को ही सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (CMIE) ने कहा कि दूसरी तिमाही में लिस्टेड कंपनियों का मुनाफा 1.50 लाख करोड़ रुपए हो गया है। यह अब तक किसी एक तिमाही में सबसे ज्यादा फायदा है। इससे पहले 2014 की चौथी तिमाही में 1.18 लाख करोड़ रुपए का मुनाफा हुआ था।

सुधार की उम्मीद है दूसरी तिमाही में

दूसरी तिमाही में इसलिए भी सुधार की उम्मीद है क्योंकि एक तो अनलॉक की वजह से आवाजाही शुरू हुई, दूसरे हर सेक्टर खुले हैं और तीसरा दूसरी तिमाही की कंपनियों की अर्निंग अच्छी रही है। डीजल, बिजली, जीएसटी जैसे तमाम जो खपत और कलेक्शन के मोर्चे रहे हैं उनमें सुधार बहुत अच्छा रहा है।

जीएसटी कलेक्शन 1.05 लाख करोड़

अक्टूबर में वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) 1.05 लाख करोड़ रुपए रहा है जो एक साल पहले की तुलना में ज्यादा रहा है। साथ ही देश के सबसे बड़े बैंक एसबीआई की रिपोर्ट का अनुमान है कि नवंबर में जीएसटी 1.08 लाख करोड़ रुपए रहेगा। वैसे जुलाई सितंबर के दौरान विश्व की ज्यादातर देशों की अर्थव्यवस्था में गिरावट ही रही है। हालांकि चीन और अमेरिका जैसे देशों की अर्थव्यवस्था में अच्छी बढ़त भी देखी गई है। चीन की अर्थव्यवस्था 4 पर्सेंट तो अमेरिका की 33 पर्सेंट बढ़ी है।

Source link

You might also like